योना की संस्कृति को तोड़ना

Day 1 of 5 • This day’s reading

Devotional

योना की पुस्तक का अध्ययन कैसे किया जाए । 

योना की पुस्तक दूसरे छोटे भविष्यद्वक्ताओं की पुस्तकों के बिल्कुल विपरीत है जिनमें मुश्किल से कोई धुंधला सन्देश दिखाई देता है । यह पुस्तक लगभग एक निबन्ध के समान है जिसमें एक अप्रचलित भविष्यद्वक्ता के जीवन के उतार चढ़ाव के बारे में लिखा गया है । इस पुस्तक को पढ़ना मानों एक दपर्ण को अपने चेहरे के सामने रखकर अपने आप को नज़दीकी से देखना है योना क्रिया और प्रतिक्रिया करने में किसी तरह से हम से अलग नहीं है । हो सकता है कि हमारे जीवन में इतने नाटकीय उतार चढ़ाव न हों (अर्थात् किसी मछली के द्वारा निगला जाना और तीन दिन के बाद उगल दिया जाना) लेकिन किसी विशेष तरह के लोगों को नापसन्द करना और उसका असहज परिस्थिति से बचकर भागने को हम अपने जीवन से जोड़कर देख सकते हैं । जब हम इस पुस्तक को पढ़ते हैं, प्रभु करे कि हम अपने आपको एक सूक्ष्मदर्शी से परखे जाने के समान देखने पाएं, और उन बातों को अपने अन्दर से दूर कर सकें जिससे एकता, शान्ति और प्रेम में कोई लाभ नहीं होता । मसीह की देह इस बात पर निर्भर करती है ।