हमारी पहचान का डीएनए

पांच दिन

जब हम शोर गुल और भटकाने वाली बातों से चारों और से घिरे हो, चाहे वो सोशल मीडिया, काम, दोस्त, मॉल या कोई बड़ी सेल हो, यह संभव है कि हम यह विचार करे कि हम कौन हैं| यह भक्ति पाठ आपको पीछे ले जायेगा जहाँ ये सब शुरू होता है और आप अपनी  सच्ची पहचान को परमेश्वर  के भय अनुसार बिताने पाएंगे|

Publisher

हम इस योजना को उपलब्ध कराने के लिए लाइवजम का शुक्रिया अदा करना चाहते हैं। अधिक जानकारी के लिए, कृपया यहां जाएं: http://www.livejam.org

About The Publisher