यिर्मयाह 17:4

यिर्मयाह 17:4 HINDI-BSI

तू अपने ही दोष के कारण अपने उस भाग का अधिकारी न रहने पाएगा जो मैं ने तुझे दिया है, और मैं ऐसा करूँगा कि तू अनजाने देश में अपने शत्रुओं की सेवा करेगा, क्योंकि तू ने मेरे क्रोध की आग ऐसी भड़काई है जो सर्वदा जलती रहेगी।”
HINDI-BSI: Hindi O.V. - Re-edited (BSI)
Share

Free Reading Plans and Devotionals related to यिर्मयाह 17:4