यूहन्ना 2
DGV
2
क़ाना में शादी
1तीसरे दिन गलील के गाँव क़ाना में एक शादी हुई। ईसा की माँ वहाँ थी 2और ईसा और उस के शागिर्दों को भी दावत दी गई थी। 3मै ख़त्म हो गई तो ईसा की माँ ने उस से कहा, “उन के पास मै नहीं रही।”
4ईसा ने जवाब दिया, “ऐ ख़ातून, मेरा आप से क्या वास्ता? मेरा वक़्त अभी नहीं आया।”
5लेकिन उस की माँ ने नौकरों को बताया, “जो कुछ वह तुम को बताए वह करो।” 6वहाँ पत्थर के छः मटके पड़े थे जिन्हें यहूदी दीनी ग़ुसल के लिए इस्तेमाल करते थे। हर एक में तक़रीबन 100 लिटर की गुन्जाइश थी। 7ईसा ने नौकरों से कहा, “मटकों को पानी से भर दो।” चुनाँचे उन्हों ने उन्हें लबालब भर दिया। 8फिर उस ने कहा, “अब कुछ निकाल कर ज़ियाफ़त का इन्तिज़ाम चलाने वाले के पास ले जाओ।” उन्हों ने ऐसा ही किया। 9जूँ ही ज़ियाफ़त का इन्तिज़ाम चलाने वाले ने वह पानी चखा जो मै में बदल गया था तो उस ने दूल्हे को बुलाया। (उसे मालूम न था कि यह कहाँ से आई है, अगरचे उन नौकरों को पता था जो उसे निकाल कर लाए थे।) 10उस ने कहा, “हर मेज़्बान पहले अच्छी क़िस्म की मै पीने के लिए पेश करता है। फिर जब लोगों को नशा चढ़ने लगे तो वह निस्बतन घटिया क़िस्म की मै पिलाने लगता है। लेकिन आप ने अच्छी मै अब तक रख छोड़ी है।”
11यूँ ईसा ने गलील के क़ाना में यह पहला इलाही निशान दिखा कर अपने जलाल का इज़हार किया। यह देख कर उस के शागिर्द उस पर ईमान लाए।
12इस के बाद वह अपनी माँ, अपने भाइयों और अपने शागिर्दों के साथ कफ़र्नहूम को चला गया। वहाँ वह थोड़े दिन रहे।
ईसा बैत-उल-मुक़द्दस में जाता है
13जब यहूदी ईद-ए-फ़सह क़रीब आ गई तो ईसा यरूशलम चला गया। 14बैत-उल-मुक़द्दस में जा कर उस ने देखा कि कई लोग उस में गाय-बैल, भेड़ें और कबूतर बेच रहे हैं। दूसरे मेज़ पर बैठे ग़ैरमुल्की सिक्के बैत-उल-मुक़द्दस के सिक्कों में बदल रहे हैं। 15फिर ईसा ने रस्सियों का कोड़ा बना कर सब को बैत-उल-मुक़द्दस से निकाल दिया। उस ने भेड़ों और गाय-बैलों को बाहर हाँक दिया, पैसे बदलने वालों के सिक्के बिखेर दिए और उन की मेज़ें उलट दीं। 16कबूतर बेचने वालों को उस ने कहा, “इसे ले जाओ। मेरे बाप के घर को मंडी में मत बदलो।” 17यह देख कर ईसा के शागिर्दों को कलाम-ए-मुक़द्दस का यह हवाला याद आया कि “तेरे घर की ग़ैरत मुझे खा जाएगी।”
18यहूदियों ने जवाब में पूछा, “आप हमें क्या इलाही निशान दिखा सकते हैं ताकि हमें यक़ीन आए कि आप को यह करने का इख़तियार है?”
19ईसा ने जवाब दिया, “इस मक़्दिस को ढा दो तो मैं इसे तीन दिन के अन्दर दुबारा तामीर कर दूँगा।”
20यहूदियों ने कहा, “बैत-उल-मुक़द्दस को तामीर करने में 46 साल लग गए थे और आप उसे तीन दिन में तामीर करना चाहते हैं?”
21लेकिन जब ईसा ने “इस मक़्दिस” के अल्फ़ाज़ इस्तेमाल किए तो इस का मतलब उस का अपना बदन था। 22उस के मुर्दों में से जी उठने के बाद उस के शागिर्दों को उस की यह बात याद आई। फिर वह कलाम-ए-मुक़द्दस और उन बातों पर ईमान लाए जो ईसा ने की थीं।
ईसा इन्सानी फ़ितरत से वाक़िफ़ है
23जब ईसा फ़सह की ईद के लिए यरूशलम में था तो बहुत से लोग उस के पेशकरदा इलाही निशानों को देख कर उस के नाम पर ईमान लाने लगे। 24लेकिन उस को उन पर एतिमाद नहीं था, क्यूँकि वह सब को जानता था। 25और उसे इन्सान के बारे में किसी की गवाही की ज़रूरत नहीं थी, क्यूँकि वह जानता था कि इन्सान के अन्दर क्या कुछ है।