मत्ती 5
XNR

मत्ती 5

5
यीशु दी प्हाड़ी सिक्षा
1यीशु भीड़ा जो दिक्खी नैं प्हाड़े पर गोईया, कने जाह़लू सैह़ बेई गेआ, तां तिसदे चेले तिस अल्ल आईये। 2कने सैह़ एह़ ग्लाई नैं तिन्हां जो सिक्षा दैणा लग्गा:
धन वचन
(लूका 6:20-23)
3“धन हन सैह़, जेह्ड़े मने दे दीन हन,
क्जोकि सुअर्गे दा राज्ज तिन्हां दा ई ऐ।
4धन हन सैह़, जेह्ड़े अफसोस करदे हन,
क्जोकि परमात्मा तिन्हां जो सांति दिंगा।
5धन हन सैह़, जेह्ड़े नम्र हन,
क्जोकि सैह़ धरतिया दे अधिकारी हुंगे।
6धन हन सैह़, जेह्ड़े धार्मिकता दी ज़िन्दगी जीणे तांई भुखे कने प्यासे हन,
क्जोकि परमात्मा तिन्हां जो तृप्त करगा।
7धन हन सैह़, जेह्ड़े दया करणे आल़े हन,
क्जोकि परमात्मा तिन्हां पर दया करगा।
8धन हन सैह़, जिन्हां दे मन साफ हन,
क्जोकि सैह़ परमात्मे जो दिक्खगे।
9धन हन सैह़, जेह्ड़े इक्की दूये सौगी मेल करवाणे आल़े हन,
क्जोकि सैह़ परमात्मे दे बच्चे कैहलांगे।
10धन हन सैह़, जेह्ड़े धार्मिकता दे कम्मां दिया बज़ाह ते सताये जांदे हन,
क्जोकि सुअर्ग दा राज्ज तिन्हां दा ऐ।”
11“धन हन तुहां, जाह़लू माणु मेरिया बज़ाह ते तुहां दी निंदा करगे, कने सतांगे कने झूठियां गल्लां ग्लाई नैं तुहां दे खलाफ हर किस्मां दियां बुरिआं गल्लां ग्लांगे। 12ताह़लू खुस कने मग्न होनेयों क्जोकि तुहां तांई सुअर्गे च इक्क बड़ा बड्डा इनाम रखेया ऐ। इसतांई कि तिन्हां लोकां भविष्यवक्तां जो जेह्ड़े तुहां ते पैहल्ले थे इसी तरीके नैं सताया था।”
लूण कने जोत्ती
(मरकुस 9:50; लूका 14:34-35)
13“तुहां संसारे दे लोकां तांई धरतिया दे लूणै साइआं हन; अपर जे लूणै दा लूणकापन चली जां, तां सैह़ भिरी कुसा चीज्जा नैं लूणका कित्ता जांगा, भिरी सैह़ कुसी कम्मे दा नीं ऐ, सिर्फ इसदे कि बाहर सट्टेया जां? कने माणुआं दे पैरां थल्लैं लतुयैं। 14तुहां संसारे दे लोकां तांई जोतिया साइआं हन। जेह्ड़ा सैहर प्हाड़े पर बसेया ऐ सैह़ कदी छुपी नीं सकदा। 15कने माणु दीय्ये बाल़ी नैं टोकरुये थल्लैं नीं अपर वरैक्टा पर रखदे हन, कने तिस नैं घरे दे सारे लोकां जो लौ पुज्जदी ऐ। 16तिंआं ई तुहां दी लौ माणुआं दे सामणै चमकी नैं सैह़ तुहां दे खरे कम्मां जो दिक्खी नैं तुहां दे पिता दी, जेह्ड़ा सुअर्गे च ऐ, तरीफ करन।”
व्यबस्था दी सिक्षा
17“एह़ मत समझा, कि मैं मूसा दिया व्यबस्था कने भविष्यवक्तां दियां कताबां जो नास करणा आया, नास करणा नीं आया, अपर पूरा करणा आया। 18क्जोकि मैं तुहां जो सच्च ग्लांदा ऐ, कि जाह़लू तिकर अम्बर कने धरती टल़ी नीं जां, ताह़लू तिकर व्यबस्था ते इक्क मात्रा या इक्क बिंदु भी पूरा होये बगैर नीं टलगा। एह़ व्यबस्था ताह़लू तिकर रैहणी ऐ, जाह़लू तिकर तिसादा मकसद पूरा नीं होई जां। 19इसतांई जेह्ड़ा कोई इन्हां छोटे ते छोटे हुक्मां च कुसी इक्की जो भी नीं मन्नैं, कने तिंआं ई लोकां जो सखां, सैह़ सुअर्गे दे राज्जे च सबना ते लोक्का समझेया जांगा। अपर जेह्ड़ा कोई तिन्हां हुक्मां दा पालण करगा कने तिन्हां जो सखांगा, सैई सुअर्गे दे राज्जे च म्हान हुंगा। 20क्जोकि मैं तुहां नैं सच्च ग्लांदा ऐ, कि जे तुहां परमात्मे दे हुक्मां जो सास्त्री कने फरीसी माणुआं दे हुक्मां ते बधी नैं मनगे, तां तुहां सुअर्गे दे राज्जे च पुज्जी सकगे।
गुस्सा कने खून
21“तुहां इसा गल्ला जो जाणदे हन, कि पराणे जमाने दे लोकां जो ग्लाया था ‘खून मत करदे,’ कने ‘जेह्ड़ा कोई खून करगा सैह़ महासभा च सज़ा दा हक्कदार हुंगा।’ 22अपर मैं तुहां नैं एह़ ग्लांदा ऐ, कि जेह्ड़ा कोई अपणे भाऊये पर गुस्सा करगा, सैह़ कचेहरी च सज़ा दा हक्कदार हुंगा, कने जेह्ड़ा कोई अपणे भाऊये जो नकम्मा ग्लांगा, सैह़ महासभा च सज़ा दा हक्कदार हुंगा; कने जेह्ड़ा कोई ग्लां, ‘ओ मूर्ख’ सैह़ नरके दी अग्गी दी सज़ा दा हक्कदार हुंगा। 23इसतांई जे तू अपणिया भेंटा परमात्मे सामणै वेदी पर चढ़ाणे तांई लेयोंगा, कने तित्थु तिज्जो याद औयें, कि मेरे भाऊये दे मने च मेरिया बज़ाह ते कुच्छ बैर ऐ, 24तां अपणिया भेंटा तित्थु वेदी सामणै छड्डी दे, कने जाई नैं पैहल्ले अपणे भाऊये नैं मेल-जोल कर कने भिरी आई नैं अपणिया भेंटा परमात्मे जो चढ़ा। 25जाह़लू तिकर तू अपणे दुश्मणे सौगी रस्ते च चलेया ऐ, तिस सौगी झटपट मेल-जोल करी लै कुत्थी इआं ना होयैं कि दुश्मण तिज्जो हाकमे दे हुआलैं करी दैं, कने हाकम तिज्जो सपाईये दे हुआलैं करी दैं, कने तू जेला च पाई दित्ता जां। 26मैं तुहां नैं सच्च ग्लांदा ऐ कि जाह़लू तिकर तू पाई-पाई चुकाई नीं दैं ताह़लू तिकर तित्थु ते छुटी नीं सकदा।
ब्यभिचार
27“तुहां सुणी बैठेयो हन कि व्यबस्था च ग्लाया था, ‘ब्यभिचार नीं करणा।’ 28अपर मैं तुहां नैं एह़ ग्लांदा ऐ, कि जेह्ड़ा कोई कुसी भी जणासा जो बुरिआ नजरां नैं दिक्खगा सैह़ अपणे मने च तिसा नैं ब्यभिचार करी चुकेया। 29जे तेरी सज्जी अख हुंदे भी तिज्जो ते पाप करवांदी ऐ, तां तिसायो कड्डी नैं सट्टी दे। क्जोकि तिज्जो तांई ऐई बधिया ऐ कि तेरे अंगा च इक्क नास होई जां तां तेरा सारा सरीर नरके दिया अग्गी च नीं सट्टेया जां। 30कने जे तेरा सज्जा हत्थ हुंदे भी तिज्जो ते पाप करवांदा ऐ, तां तिस जो बड्डी नैं सट्टी दे; क्जोकि तिज्जो तांई ऐई बधिया ऐ कि जे तेरे अंगा च इक्क नास भी होई जां तमी तेरा सारा सरीर नरके नीं सट्टेया जां।
तलाक
(मत्ती 19:9; मरकुस 10:11,12; लूका 16:18)
31“व्यबस्था च एह़ भी ग्लाया था, ‘जेह्ड़ा कोई अपणिया लाड़िया जो छड्डणा चांह़दा, तां तिसायो तलाक दैं।’ 32अपर मैं तुहां नैं एह़ ग्लांदा ऐ कि जेह्ड़ा कोई अपणिया लाड़िया जो ब्यभिचारे जो छड्डी नैं कुसी होर बज़ाह ते तलाक दैं, तां सैह़ तिसाते ब्यभिचार करवांदा ऐ; कने जेह्ड़ा कोई तिसा छड्डिया जो ब्याई लैं, सैह़ ब्यभिचार करदा ऐ।
कसम खाणा
33“कने भिरी तुहां एह़ भी सुणेया ऐ, कि पराणे जमाने दे लोकां जो व्यबस्था च ग्लाया था, ‘झूठी कसम मत खांदे अपर प्रभु तांई अपणिया कसमा जो पूरिया करनेयों।’ 34अपर मैं तुहां नैं एह़ ग्लांदा ऐ, कि कदी कसम मत खांदे, ना तां सुअर्गे दी, क्जोकि सैह़ परमात्मे दा सिंहासण ऐ। 35ना तां धरतिया दी, क्जोकि सैह़ तिसदेयां पैरां दी चौकी ऐ; ना तां यरूशलेम सैहरे दी क्जोकि सैह़ महाराजे दा सैहर ऐ। 36अपणे सिरे दी भी कसम मत खांदे क्जोकि तुहां इक्की बाले जो भी चिट्टा कने काल़ा नीं करी सकदे हन। 37अपर तुहां दी गल्ल ‘हाँ दी हाँ’ या ‘ना दी ना होयैं,’ क्जोकि जेह्ड़ा कुच्छ इसते जादा हुंदा ऐ सैह़ सैताने ते हुंदा ऐ।
बदला
(लूका 6:29-30)
38“कने तुहां एह़ भी सुणेया ऐ, कि व्यबस्था च ग्लाया था, ‘अखी दे बदले अख, कने दंदे दे बदले दंद।’ 39अपर मैं तुहां नैं एह़ ग्लांदा ऐ, कि बुरे दा बदला मत लैंदे, बल्कि जेह्ड़ा कोई तेरिया सज्जिया खाखा पर चपेड़ मारे, तिसदे गांह दूईआ खाखा भी करी देआ। 40जे कोई तिज्जो पर जबरदस्ती करी नैं तेरा कुरता लैणां चांह़दा ऐ, तां तिसियो अपणी कमरी भी लैणां दे। 41कने जे कोई तिज्जो जबरदस्ती इक्क मील लेई जाणे तांई मजबूर करैं, तां तिस सौगी दो मील होर चली जा। 42जेह्ड़ा कोई तिज्जो ते मंगे, तिसियो दे, कने जेह्ड़ा तिज्जो ते उधार लैणां चांह़दा ऐ, तां तिसियो मना मत कर।
दुश्मणा नैं प्यार
(लूका 6:27,28,32-36)
43“तुहां एह़ भी सुणेया ऐ कि व्यबस्था च ग्लाया था, ‘अपणे प्ड़ेसिये सौगी प्यार रखणा, कने अपणे बैरिये सौगी बैर।’ 44अपर मैं तुहां नैं एह़ ग्लांदा ऐ, कि अपणे दुश्मणा नैं भी प्यार रखा कने अपणे सताणे आल़ेआं तांई प्रार्थना करा। 45तांजे तुहां अपणे सुअर्गीय पिता दे बच्चे बणगे जेह्ड़ा कि सुअर्गे च ऐ, क्जोकि तिसदा सूरज खरे कने बुरे लोकां पर सीरदा ऐ, कने इआं ई बरखा भी धर्मी कने अधर्मी लोकां पर बरदी ऐ। 46क्जोकि जे तुहां अपणे प्यार रखणे आल़ेआं सौगी प्यार रखगे, तां तुहां तांई क्या फायदा हुंगा? क्जोकि चुंगी लैणे आल़े भी इआं नीं करदे हन?
47“जे तुहां सिर्फ अपणे भाऊआं दा ई भला करदे हन, तां तुहां कुण देहया बड्डा कम्म करदे हन? क्जोकि दूईआं जातिआं दे लोक भी तां ऐदेया नीं करदे हन? 48इसतांई चाइदा कि तुहां हमेसा सैई करा जेह्ड़ा भला ऐ, जिंआं तुहां दा सुअर्गीय पिता भला ऐ।

This work is licensed under Creative Commons Attribution-ShareAlike 4.0 License.


Learn More About काँगड़ी

Encouraging and challenging you to seek intimacy with God every day.


YouVersion uses cookies to personalize your experience. By using our website, you accept our use of cookies as described in our Privacy Policy.