मत्ती 5
DOG

मत्ती 5

5
यीशु मसीह दी पाड उपर दी शिखया
1यीशु एस पीड गी दिखियै पाड़ी उपर चली गीया, ते जेसलै बेई गीया ते चेलें ओदे कोल आईयै। 2ते ओ उनेंगी ए शिखया देन लगया के,
तन्न बोल
3“तन्न न ओ, जेड़े परमेसर दी लोड समझदे न, किके सोर्ग दा राज उंदा ऐ।
4तन्न न ओ, जेड़े बसोस करदे न, किके परमेसर उनेंगी तसल्ली देग।
5तन्न न ओ, जेड़े नींदे न, किके ओ तरती दे वारस ओगन।
6तन्न न ओ, जेड़े तरमी बनियै रौना चांदे न, किके ओ रजाए जागन।
7तन्न न ओ, जेड़े तरस खंदे न, किके उन्दे उपर तरस कित्ता जाग।
8तन्न न ओ, जिंदे मन साफ़ न, किके ओ परमेसर गी दिखघंन।
9तन्न न ओ, जेड़े मेल कराने आले न, किके ओ परमेसर दे बच्चे अख्खे जाघंन।
10तन्न न ओ, जेड़े तर्म आसतै सताए जंदे न, किके सोर्ग दा राज उन्दा गै।”
11“तन्न ओ तोस, जिसलै मेरे चेलें ओनें दे खातर मनुक्ख थुआड़ी निंदाया करन, ते सतान ते चुठ बोली-बोली थआड़े वरोध च सारी किसम दियां बुरीयां गल्लां आखन। 12ओस बेलै खुश ते मगन ओयो, किके सोर्ग च थुआड़े लेई बड़ा फल ऐ। एसकरी के उनेंगी उनै पविखवक्तें गी जेड़े थुआड़े थमां पैलैं हे इयां गै सताया हा।”
लून ते लोई दा तोल करना
13“तोस तरती दे लून आला लेखा ओ; जेगर लून दा सुआद बिगड़ी जा, पी ओ केस चीज कन्ने लुनका कित्ता जाग? पी ओ किसे बी कम्में दा नेई, रऊंदा सिर्फ एस दे के बार सुट्टी दिता जा ते लोकें दे पैरें थलै मिंधी दिता जा। 14तोस दुनियां दी लो आला लेखा ओ। जेका शहर पाड़ दे उपर बसे दा ऐ ओ शपी नेई सकदा। 15ते लोग दीया बालियै दीपटे दे थलै नेई लेकन द्यूंट दे उपर रखदे न, ओसलै ओस कन्ने कर दे सब लोकें गी लो पुज्जदी ऐ। 16एस चाली थुआड़ी लो मनुक्खें दे अगें चमके के ओ थुआड़े पले कम्में गी दिखियै थुआड़े पेओ दी जेका सोर्ग बेच ऐ मैमा करन।
कनून दा पूरा ओना
17“ऐ नेई समझयो, के आऊँ मूसा दे कनून जां पविखवक्तें दी लिखी दियां गल्लां शुपाने आस्ते आएदा ऐं शुपाने आस्ते नेई, लेकन पूरा करने गी आएदा ऐं। 18किके आऊँ थुआड़े कन्ने सच आखना ऐं, के जिसलै तकर अम्बर ते तरती टली नेई जाघंन ओस बेलै तकर कनून बिचा एक मात्रा जां एक बिंदु बी बगैर पूरा ओए दे नेई टलग। 19एसकरी जेड़ा कोई इन्हें निकें थमां निके उक्में बिचा कुसे एक गी बी नेई मनग, ते उवै जेया लोकें गी सिखाग, ओ सोर्ग दे राज बेच सबनी थमां निका आखया जाग; लेकन जेड़ा कोई इन्हें उक्में दा पालन करग ते उनेंगी गी सिखाग, उसी सोर्ग दे राज च बड़ा अखाया जाग। 20किके आऊँ थुआड़े कन्ने आखना ऐं, के जे थुआड़ी तार्मिकता शास्त्रियें ते फरीसियें दी तार्मिकता थमां बैतर नेई होग, तां तोस सोर्ग दे राज बेच कदें बी जाई नेई सकगे।
कत्तल ते गुस्सै दी सजा
21“तोस सुनी चुके दे ओ, के पराने जमान्ने च परमेसर ने बुजुर्गे गी के आखया हा के हत्या नेई करनी, ते जेड़ा कोई हत्या करग ओ दालत च सजा दे काबल ओग। 22लेकन आऊँ थुआड़े कन्ने ऐ आखना ऐ, के जेका कोई अपने प्रा दे उपर रोह करग, ओ परमेसर थमां सजा दे आक्दार ओग, ते जेका अपने प्रा गी नकमां आखघ ओ महासभै च सजा दे काबल ओग; ते जेका कोई आखे ओ बेवकूफा ओ नरक दी अग्ग दे सजा दे काबल ओग। 23एसकरी ते जिसलै तू अपनी पेंट गी बेदी उपर लेई अवै, ते उत्थें तुगी याद अवै, के तेरे प्रा दे मन च तेरे लेई केश नराजगी ऐ, 24तां अपनी पेंट उत्थें बेदी दे कोल शुड़ी दे समुक ते जाईयै पैलैं अपने प्राऊ राज नमां कर ते तैलूं आईयै अपनी पेंट चढ़ा। 25जदूं तकर तू अपने दोष लाने आले कन्ने रस्ते बेच ऐं, ओस कन्ने चट सुलाह करी लै कुतै ऐसा नेई होवे के दुश्मन तुगी न्यायी गी सोंपै, ते न्यायी तुगी सपाई गी सौपी दे, ते तू जेलै च सुट्या जा। 26आऊँ थुआड़े कन्ने सच अखनां ऐं के जेलै तकर तू रति-रति देई नेई दें तैलूं तकर उथुन्दा छुड़की नेई सकगा।
ब्यभिचार दे बारै च शिखया
27“तोस सुनी चुके दे ओ के उक्म के आखदा ऐ के आखया गेदा हा, ब्यभिचार नेई करयो।” 28लेकन आंऊ थुआड़े कन्ने ऐ अखनां ऐ, के जेड़ा कोई कुसे जनानी गी बुरी नजर कन्ने बी दिखग ओ अपने मने च ओस कन्ने ब्यभिचार करी चुके दा ऐ। 29जे तेरी सज्जी आख तुगी ठोकर दियै, तां उसी कढीयै अपने कोलां सुट्टी दे; किके तेरे आसतै इयै ठीक ऐ के तेरे अंगें बिचा एक नाश ओई जा ते तेरा सारी जिंद नरक बिच नेई जा। 30जेकर तेरा सज्जा हत्थ तुगी ठोकर दे, तां उसी कट्टीयै सुट्टी दे; किके तेरे आसतै इयै पला ऐ के तेरे अंगां बिचा एक नाश ओई जा ते तेरा सारा जिंद नरक बिच नेई सुटेया जाए।
लेखत दे बारै च शिखया
31“ऐ बी गलाया गीया हा, ‘जेहड़ा कोई अपनी करेआली गी कढी उड़े, तां ओदी ओ लेखत देई दियै।’ 32लेकन आंऊ थुआड़े कन्ने ऐ आखना ऐ के जेहड़ा कोई अपनी करेआली गी ब्यभिचार दे बगैर किसे होर भान्ने थमां तलाक दियै, ते ओ उस्स थमां ब्यभिचार करांदा ऐ; ते जेहड़ा कोई उस्स त्यागी ओई दे कन्ने ब्याह करै, ओ ब्यभिचार करदा ऐ।”
कसम नेई खानी
33“तोस सुनी चुके दे ओ के उक्म के आखदा ऐ पराने जमान्ने दे लोकें कन्ने गलाया गेदा हा, चुठी कसम नेई खायो, लेकन प्रभु आसतै अपनी कसम गी पूरी करयो। 34लेकन आंऊ थुआड़े कन्ने ऐ आखना ऐ के कदें बी कसम नेई खायो; नां गै सोर्ग दी, किके ओ परमेसर दा संघासन ऐ; 35नां गै तरती दी, किके ओ ओदे पैरें दी चौकी ऐ; नां यरूशलेम दी, किके ओ महाराजा दा शैर ऐ। 36अपने सिरे दी बी कसम नेई खायो, जां नेई दी नेई ओए; 37किके जे केश एस थमां मता ओंदा ऐ ओ शतान थमां ओंदा ऐ।
बदला नेई लेना
38“तोस सुनी चुके दे ओ के कनून के आखया गेदा हा, आख दे बदलै आख, ते दंद दे बदलै दंद। 39लेकन आंऊ थुआड़े कन्ने ऐ आखना ऐ के बुरे दा मकाबला नेई करयो; लेकन जेका तेरे मुं दे सज्जे पासे चांड मारे, ओसदी बक्खी दुआ बी फेरी दे। 40ते कोई तेरे उपर मकदमा करियै तेरा कुरता लेना चाह, ओस बेलै उसी दुवा बी लेना दे। 41जे तुगी कोई एक मील इयां गै लेईया ते तू ओदे कन्ने दो मील चली जाना। 42जे कोई तेरे थमां केश मंगै, उसी देई दे; ते जेड़ा कोई तेरे थमां दुआर लेना चा, ओदे थमां मुंह नेई फेर।
43“तोस सुनी चुके दे ओ के आखया गेदा हा, अपने गुआंडी कन्ने एर्ख रखना, ते अपने बैरी कन्ने बैर। 44लेकन आंऊ थुआड़े कन्ने ऐ अखनां ऐ के अपने बैरीयें कन्ने एर्ख रखो ते अपने सताने आलें आसतै प्रार्थना करो, 45जेस कन्ने तोस अपने सोर्गा दे पिता दी बच्चे बनगेओ किके ओ पले ते बुरे दौनीं उपर अपना सूरज चाढ़दा ऐ, ते तरमी ते पापी दौनीं उपर अपनी बरखा बरांदा ऐ। 46किके जे तोस अपने प्यार रखने आलें कन्ने गै प्यार करो तां थुआड़े आसतै के फल ओग? के चुंगी लेने आले बी इयां गै नी करदे?
47“जेकर तोस बी छडा अपने प्राऊ गी गै नमस्ते करदे ओ, ते केड़ा बड़ा कम करदे ओ? के गैर जातीयां बी ऐ जेया नेई करदीयां? 48एसकरी लोड्दा ऐ के तोस सेई बनो, जियां थुआड़ा सोर्ग दा पिता सेई ऐ।”

This work is licensed under Creative Commons Attribution-ShareAlike 4.0 License.


Learn More About डोगरी नवां नियम

Encouraging and challenging you to seek intimacy with God every day.


YouVersion uses cookies to personalize your experience. By using our website, you accept our use of cookies as described in our Privacy Policy.