मत्ती 5
KFSNT

मत्ती 5

5
यीशुये रा पहाड़ी उपदेश
1यीशुये ताहली जे लोकां री ये बड्डी भीड़ देक्खी, तां सै पहाड़िया परा जो थोड़ा जेआ ऊपर गया; कने ताहली जे तिन्हौं सखाणे खातर बैट्ठया तां तिसरे चेले तिसले आये। 2कने यीशुये तिन्हांजो ये उपदेश देणा शुरु कित्या:
आशीष बोल
(लूका 6:20-23)
3“परमेशर तिन्हां लोकां जो आशीष देआं,
सै जे जाणाँ ये भई तिन्हौं परमेशरा री जरूरत इ, काँह्भई सै तिन्हां पर राज कराँ।
4परमेशर तिन्हां लोकां जो आशीष देआं, सै जे दुख मनायें,
काँह्भई परमेशर तिन्हांजो तसल्ली देआं।
5परमेशर तिन्हां लोकां जो आशीष देआं,
सै जे नम्र ये, काँह्भई परमेशरा अपणे वायदे रे मुतावक इसा धरतिया पर तिन्हांजो सारियां आशीषां देणियां।
6परमेशर तिन्हां लोकां जो आशीष देआं, सै जे सच्चाईया ने तियां जीणे री इच्छा रक्खां ये,
तियां जे कोई भुक्खा रे वगत खाणे पीणे री इच्छा रक्खां, काँह्भई तिन्हौं परमेशर सच्चाईया ने जीणे रे लायक बणां।
7परमेशर तिन्हां लोकां जो आशीष देआं, सै जे दयालु ये,
काँह्भई परमेशरा तिन्हां पर दया करनी।
8परमेशर तिन्हां लोकां जो आशीष देआं, तिन्हारे जे मन साफ ये,
काँह्भई तिन्हां परमेशरा रा दर्शण पाणा।
9परमेशर तिन्हां लोकां जो आशीष देआं, सै जे शान्तिया रे काम्म कराँ ये,
काँह्भई सै परमेशरा रे बच्चे हुणे।
10परमेशर तिन्हां लोकां जो आशीष देआं,
सै जे परमेशरा रिया इच्छा रे मुतावक जीणे रिया बजह ने मुशीवत झेल्लां ये, काँह्भई परमेशर तिन्हां पर राज कराँ।”
11“परमेशर तुहांजो आशीष देआं, काँह्भई ताहली जे माहणु तुहांजो मेरा चेला हुणे रिया वजह ने तुहांरी निंध्या करो, कने सताओ, कने झूट्ठ बोल्ली-बोल्लीने तुहांरे बरोधा च हरेक किस्मा री बुरी गल्ल बोल्ले। 12तां खुश कने मगन हुयां, काँह्भई तुहांरे खातर परमेशरे स्वर्गा च सै जे ईनाम रक्खीरा सै बौहत बड्डा। इस खातर भई लोकें तिन्हां भविष्यवक्तयां जो सै जे बौहत साल पैहले थे इयां इ सताईरा था।”
तुहें लूणा साई ये कने जोतिया साई ये
(मरकुस 9:50; लूका 14:34-35)
13“तुहें इस संसारा रे लोकां खातर लूणा साई ये; पर जे लूणा रा स्वाद बिगड़ी जाओ, तां फेरी इसजो किस तरिके ने इस्तेमाल लायक बणाया जाई सक्कां? फेरी सै किसी कम्मां रा निआं, सिर्फ इसरे भई बाहर सट्टया जाओ कने लोकां रे पैराँ हेठ दल़या जाओ। 14तुहें इस संसारा रे लोकां खातर लोई साई ये। इक येढ़ा नगर सै जे ऊच्चे पहाड़ा पर बसीरा सै छिपाईने नीं छिपि सकदा। 15लोक दिऊआ बाल़ीने किसी टोकरे हेठ नीं पर ऊच्चिया ठारी रखां ये, ताकि तिसते घरा रे सारयां लोकां जो लोय हुईजो। 16तियां इ तुहांरी जिन्दगी उजाले साई माहणुआं रे सामणे चमको भई सै तुहांरे खरयां कम्मां जो देखीने तुहांरे पिता री बडयाई करो, सै जे स्वर्गा चा।”
व्यवस्था री शिक्षा
17“ये मता सोचदे, भई हऊँ मूसा रिया व्यवस्था जो या भविष्यवक्तयां रे लिखिरे जो खत्म करने आईरा, हऊँ इन्हौं खत्म करने नीं, पर इन्हांजो पूरा करने आईरा। 18काँह्भई हऊँ तुहांजो सच्च बोलां, भई तदुआं तक जे अकाश कने धरती टल़ी नीं जाओ, तदुआं तक व्यवस्था ते इक मात्रा या बिन्दु बी बिणा पूरा हुये नीं टल़णा। 19इस खातर सै जे कोई छोट्टयां ते छोट्टयां हुक्मां चते किसी इक्की जो तोड़ो, कने लोकां जो बी तेढ़ा इ करना सखाओ, सै स्वर्गा रे राज्जा च सबनीं ते छोट्टा हूणा; पर सै जे कोई तिन्हां हुक्मां रा पालन करगा कने तिन्हौ सखांगा, सै माहणु स्वर्गा रे राज्जा च महान समझया जाणा। 20काँह्भई हऊँ तुहांजो बोलां, भई तुहें शास्त्रियां कने फरीसियां रे धर्मा रे आचरणा ते बधीने व्यवहार करो, तां तुहांरा स्वर्गा रे राज्जा च दाखल हूणा सान आ।”
गुस्सा कने हत्या री सजा
21“तुहें सुणी चुक्कीरे भई तुहांरे पूर्वजां ने बोल्या गया था भई ‘किसी री हत्या नीं करनी’ कने ‘सै जे कोई हत्या करगा तिस कचैहरिया च सजा रे लायक हूणा।’ 22पर हऊँ तुहांजो बोलां, भई सै माहणु जे अपणे भाईये पर गुस्सा कराँ, तिसरा परमेशरा न्याय करना, कने सै जे कोई अपणे भाईये जो निकम्मा समझीने तिसरी बेज्जति करगा तिस्सो बड्डिया सभा च परमेशरा बौहत भयानक सजा देणी; कने जे कोई अपणे भाईये जो ‘अरे मूर्ख!’ करीने बोल्लो सै नरका रिया अग्गी च सजा रा हकदार हूणा। 23इस खातर जे तू मन्दरा रिया बेदिया पर अपणी भेंट चढ़ाईराँ, कने तित्थी तिज्जो याद आओ, भई तेरे भाईये रे मना च तेरे खातर कोई बरोध आ, 24तां तू तिसा भेंटा जो बेदी रे सामणे छड्डी औ, कने पैहले जाईने अपणे भाईये ने सुलह कर फेरी आईने तू अपणिया भेंटा जो चढ़ा। 25ताहलियां तक जे तू अपणे दुश्मणा सौगी रस्ते चा, तिसने इकदम मेल-मलाप करी लै किति येढ़ा नीं ओ भई सै तिज्जो जज्जा ले सौंपी दो, कने जज तिज्जो सपाईये ले सौंपी दो, कने फेरी सपाई तिज्जो जेल्ला च पाई दो। 26हऊँ तेरने सच्च बोलां भई तदुआं तक जे तू तिस सब किजि रा भुगतान नीं करी दो, सै जे तूह पर बाकया रैईरा, तदुआं तक तू जेलखान्ने ते कदीं नीं निकल़णा।”
बुरा बिचार
27“तुहें सुणी चुक्कीरे भई परमेशरा रा ये हुक्म आ, ‘व्यभिचार नीं करना।’ 28पर हऊँ तुहांजो बोलां, भई जे कोई माह्णु किसी जनाना जो बासना रिया बुरी नजरा ने देक्खां, तां परमेशरा रिया नजरा च सै तिसाने पाप करी चुक्कया। 29पाप करने रिया हरेक वजह जो दूर करा! इसजो पूरे तरिके ने अस्वीकार करा। काणा हुईने तेरा स्वर्गा जो जाणा बौहत अच्छा, बजाये इसरे भई तेरियां दो आक्खीं हुन्दे हुये तिज्जो नरका रिया तिसा अग्गी च पाया जाओ सै जे कदीं मनी बुझणी। 30तियां इ तियां जे भई तुहें इक हात्थ बड्डया रांये सै जे तुहांरा पाप करने री वजह बणां। जे तुहें स्वर्गा जो जांये, भले इ तुहांले सिर्फ इक हात्थ हो, सै बधिया। पर तुहांले दो हात्थ हो कने तुहें नरका च जाओ, तां सै बुरा।”
तलाक
(मत्ती 19:9; मरकुस 10:11,12; लूका 16:18)
31“बोल्या गया, ‘ताहली जे कोई अपणिया घराऔल़िया जो तलाक देआं, तां तिस्सो लिखित रुपा च तलाक देणा चाहिन्दा।’ 32पर हऊँ तुहांजो बोल्लां भई सै जे कोई अपणिया घराऔल़िया जो व्यभिचारा ते इलावा होर किसी वजह ते तलाक देओ, तां सै तिसाते व्याभिचार करवां; कने सै जे कोई तिसा छड्डी रिया ने ब्याह करो, सै व्याभिचार कराँ।”
सगन्द
33“तुहें ये बी सुणीरा भई अहांरे पूर्वजां जो गलाया गया था, ‘तू झूट्ठी सगन्द नीं खायां, पर परमेशरा ने कित्तिरे बायदे जो पूरा कर।’ 34पर हऊँ तेरने ये बोलां, भई कदीं सगन्द नीं खायां; नां त स्वर्गा री, काँह्भई सै परमेशरा रा संघासण आ; 35न धरतिया री, काँह्भई सै तिसरे पैर रखणे री जगह इ; न यरूशलेम री, काँह्भई सै महांराजे रा नगर आ। 36कने अपणे सिरा री बी सगन्द नीं खायां, काँह्भई तू इक्की बाल़ा जो बी न सफेद, न काला करी सकदा। 37पर तुहांरी गल्ल हाँ री हाँ, या नां री नां ओ; काँह्भई जो किछ इसते जादा हुआं सै शैतान यनि बुराईया ने हुआं।”
बदले री भावना मत रखदा
(लूका 6:29,30)
38“तुहें सुणी चुक्कीरे भई व्यवस्था च ये लिखिरा, ‘अक्खी रे बदले आक्ख कने दन्दा रे बदले दान्द।’ 39पर हऊँ तुहांजो बोलां भई किसी बुरे माहणुये रे कम्मां रा बदला देखां लेन्दा; पर जे कोई तेरिया सज्जिया खाखा पर चपैड़ मारीने तेरी बेज्जति करो, तां तिस खौ दुज्जी खाख बी फेरी दे। 40जे कोई तूह पर कचैहरिया च मकद्दमा चलाईने तेरा कुर्ता बी त्वारना चाये, तां तिस्सो तू चोल़ा तक देई दे। 41जे कोई तिज्जो इक मील चलने जो मजबूर करो, तां तिस सौगी तू दो मील चली जा। 42सै जे तेरते कोई चीज मंगां, तिस्सो देई दे; कने सै जे उधार लेणे खातर विनती कराँ, तिसजो मना नीं कर।”
सब्बीं ने प्रेम रखा
(लूका 6:27,28,32-36)
43“तुहें सुणी चुक्कीरे भई व्यवस्था च ये लिखिरा, ‘तू अपणे पड़ेसिये ने प्यार, कने दुश्मणा ने नफरत कर।’ 44पर हऊँ तुहांजो ये बोलां, भई अपणे दुश्मणां ने प्यार रखा कने अपणे सताणे औल़यां रे खातर प्राथना करा। 45ताकि तिसते तुहां स्वर्गा च रैहणे औल़े अपणे पिता रे बच्चे बणना; काँह्भई सै भलयां कने बुरयां दुईं लोकां पर सूरजा री लोय बराबर कराँ, कने धर्मी कने पापी सबनीं लोकां पर सै बराबर बरखा कराँ। 46काँह्भई जे तुहें अपणे प्यार रखणे औल़यां नेई प्यार रखां ये, तां तुहांजो परमेशरा कजो ईनाम देणा? क्या टैक्स लेणे औल़े बी येढ़ा इ नीं करदे?”
47“कने जे तुहें सिर्फ अपणे भाईयां जोई नमस्कार करो, तां कुण जेआ महान काम्म कराँ ये? क्या अन्यजातियां रे लोक बी येढ़ा इ नीं करदे? 48तुहौं तिन्हां लोकां ने प्रेम करने री जरूरत इ सै जे तुहांजो प्यार नीं करदे, इस इ तरिके ने तुहां सिद्ध हूणा तियां जे स्वर्गा च रैहणे औल़ा तुहांरा पिता परमेशर सिद्ध आ।”

This work is licensed under Creative Commons Attribution-ShareAlike 4.0 License.


Learn More About बिलासपुरी नौआं नियम

Encouraging and challenging you to seek intimacy with God every day.


YouVersion uses cookies to personalize your experience. By using our website, you accept our use of cookies as described in our Privacy Policy.