भजन संहिता 2:5