भजन संहिता 115:7

भजन संहिता 115:7 HINDI-BSI

उनके हाथ तो रहते हैं; परन्तु वे स्पर्श नहीं कर सकतीं; उनके पाँव तो रहते हैं, परन्तु वे चल नहीं सकतीं; और अपने कण्ठ से कुछ भी शब्द नहीं निकाल सकतीं।
HINDI-BSI: Hindi O.V. - Re-edited (BSI)
Share