भजन संहिता 115:17

भजन संहिता 115:17 HINDI-BSI

मृतक जितने चुपचाप पड़े हैं, वे तो याह की स्तुति नहीं कर सकते
HINDI-BSI: Hindi O.V. - Re-edited (BSI)
Share