अय्यूब 41
HINDI-BSI
41
1“फिर क्या तू लिब्यातान#देखें 3:8; भजन 74:14; 104:26; यशा 27:1 अथवा मगर
को बँसी के द्वारा खींच सकता है,
या डोरी से उसकी जीभ दबा सकता है?
2क्या तू उसकी नाक में नकेल लगा सकता,
या उसका जबड़ा कील से बेध सकता है?
3क्या वह तुझ से बहुत गिड़गिड़ाएगा?
क्या वह तुझ से मीठी बातें बोलेगा?
4क्या वह तुझ से वाचा बाँधेगा
कि वह सदा तेरा दास रहे?
5क्या तू उससे ऐसे खेलेगा जैसे चिड़िया से,
या अपनी लड़कियों का जी बहलाने को
उसे बाँध रखेगा?
6क्या मछुओं के दल उसे बिकाऊ माल
समझेंगे?
क्या वह उसे व्यापारियों में बाँट देंगे?
7क्या तू उसका चमड़ा भाले से,
या उसका सिर मछुवे के तिरशूलों से बेध
सकता है?
8तू उस पर अपना हाथ ही रखे,
तो लड़ाई को कभी न भूलेगा#41:8 मूल में, तू स्मरण रख , और
भविष्य में कभी ऐसा न करेगा।
9देख, उसे पकड़ने की आशा निष्फल
रहती है;
उसके देखने ही से मन कच्‍चा पड़ जाता है।
10कोई ऐसा साहसी#41:10 मूल में, क्रूर नहीं, जो उसको भड़काए।
फिर ऐसा कौन है जो मेरे सामने
ठहर सके?
11किसने मुझे पहले दिया है, जिसका बदला
मुझे देना पड़े!
देख, जो कुछ सारी धरती पर#41:11 मूल में, सारे आकाश के तले है सो मेरा है।
12“मैं उसके अंगों के विषय,
और उसके बड़े बल और उसकी बनावट
की शोभा के विषय चुप न रहूँगा।
13उसके ऊपर के पहिरावे को कौन उतार
सकता है?
उसके दाँतों की दोनों पाँतियों#41:13 मूल में, दुहरे बाग के अर्थात्
जबड़ों के बीच कौन आएगा?
14उसके मुख के दोनों किवाड़ कौन खोल
सकता है?
उसके दाँत चारों ओर से डरावने हैं।
15उसके छिलकों#41:15 मूल में, उसके ढालों के नाले की रेखाएँ घमण्ड का
कारण हैं;
वे मानो मुहरबन्द किए हुए हैं।
16वे एक दूसरे से ऐसे जुड़े हुए हैं,
कि उनमें वायु भी नहीं घुस सकती।
17वे आपस में मिले हुए
और ऐसे सटे हुए हैं, कि अलग अलग
नहीं हो सकते।
18फिर उसके छींकने से उजियाला चमक
उठता है,
और उसकी आँखें भोर की पलकों के
समान हैं।
19उसके मुँह से जलते हुए पलीते निकलते हैं,
और आग की चिनगारियाँ छूटती हैं।
20उसके नथुनों से ऐसा धुआँ निकलता है,
जैसा खौलती हुई हाँड़ी और जलते हुए
नरकटों से।
21उसकी साँस से कोयले सुलगते,
और उसके मुँह से आग की लौ
निकलती है।
22उसकी गर्दन में सामर्थ्य बनी रहती है,
और उसके सामने डर नाचता रहता है#41:22 मूल में, नाचती है
23उसके मांस पर मांस चढ़ा हुआ है,
और ऐसा आपस में सटा हुआ है जो
हिल नहीं सकता।
24उसका हृदय पत्थर सा दृढ़ है,
वरन् चक्‍की के निचले पाट के समान
दृढ़ है।
25जब वह उठने लगता है, तब सामर्थी भी
डर जाते हैं,
और डर के मारे उनकी सुध-बुध लोप हो
जाती है।
26यदि कोई उस पर तलवार चलाए, तो उससे
कुछ न बन पड़ेगा#41:26 मूल में, खड़ी न होगी ;
और न भाले और न बर्छी और न तीर से।
27वह लोहे को पुआल सा,
और पीतल को सड़ी लकड़ी सा
जानता है।
28वह तीर#41:28 मूल में, धनु के पुत्र से भगाया नहीं जाता,
गोफन के पत्थर उसके लिये भूसे से
ठहरते हैं।
29लाठियाँ भी भूसे के समान गिनी जाती हैं;
वह बर्छी के चलने पर हँसता है।
30उसके निचले भाग पैने ठीकरे के समान हैं,
कीच पर मानो वह हेंगा फेरता है।
31वह गहिरे जल को हंडे के समान मथता है :
उसके कारण नील नदी#41:31 मूल में, समुद्र मरहम की हाँड़ी
के समान होती है।
32वह अपने पीछे चमकीली लीक छोड़ता
जाता है।
गहिरा जल मानो श्‍वेत दिखाई देने लगता है।
33धरती पर उसके तुल्य और कोई नहीं है,
जो ऐसा निर्भय बनाया गया है।
34जो कुछ ऊँचा है, उसे वह ताकता ही
रहता है,
वह सब घमण्डियों के ऊपर राजा है।”