व्यवस्थाविवरण 26
HINDI-BSI
26
पहली उपज का अर्पण
1“फिर जब तू उस देश में जिसे तेरा परमेश्‍वर यहोवा तेरा निज भाग करके तुझे देता है पहुँचे, और उसका अधिकारी होकर उसमें बस जाए, 2तब जो देश तेरा परमेश्‍वर यहोवा तुझे देता है, उसकी भूमि की भाँति भाँति की जो पहली उपज तू अपने घर लाएगा, उसमें से कुछ टोकरी में लेकर उस स्थान पर जाना, जिसे तेरा परमेश्‍वर यहोवा अपने नाम का निवास करने को चुन ले।#निर्ग 23:19 3और उन दिनों के याजक के पास जाकर यह कहना, ‘मैं आज तेरे परमेश्‍वर यहोवा के सामने निवेदन करता हूँ, कि यहोवा ने हम लोगों को जिस देश के देने की हमारे पूर्वजों से शपथ खाई थी उसमें मैं आ गया हूँ।’ 4तब याजक तेरे हाथ से वह टोकरी लेकर तेरे परमेश्‍वर यहोवा की वेदी के सामने रख दे। 5तब तू अपने परमेश्‍वर यहोवा से इस प्रकार कहना, ‘मेरा मूलपुरुष एक अरामी मनुष्य था जो मरने पर था; और वह अपने छोटे से परिवार समेत मिस्र को गया, और वहाँ परदेशी होकर रहा; और वहाँ उससे एक बड़ी, और सामर्थी, और बहुत मनुष्यों से भरी हुई जाति उत्पन्न हुई। 6और मिस्रियों ने हम लोगों से बुरा बर्ताव किया, और हमें दु:ख दिया, और हम से कठिन सेवा ली। 7परन्तु हम ने अपने पूर्वजों के परमेश्‍वर यहोवा की दोहाई दी, और यहोवा ने हमारी सुनकर हमारे दुख-श्रम और अन्धेर पर दृष्‍टि की; 8और यहोवा ने बलवन्त हाथ और बढ़ाई हुई भुजा से अति भयानक चिह्न और चमत्कार दिखलाकर हम को मिस्र से निकाल लाया; 9और हमें इस स्थान पर पहुँचाकर यह देश जिस में दूध और मधु की धाराएँ बहती हैं हमें दे दिया है। 10अब हे यहोवा, देख, जो भूमि तू ने मुझे दी है उसकी पहली उपज मैं तेरे पास ले आया हूँ।’ तब तू उसे अपने परमेश्‍वर यहोवा के सामने रखना; और यहोवा को दण्डवत् करना; 11और जितने अच्छे पदार्थ तेरा परमेश्‍वर यहोवा तुझे और तेरे घराने को दे, उनके कारण तू लेवियों और अपने मध्य में रहनेवाले परदेशियों सहित आनन्द करना।
12“तीसरे वर्ष जो दशमांश देने का वर्ष ठहरा है, जब तू अपनी सब भाँति की बढ़ती के दशमांश को निकाल चुके, तब उसे लेवीय, परदेशी, अनाथ, और विधवा को देना, कि वे तेरे फाटकों के भीतर खाकर तृप्‍त हों;#व्य 14:28,29 13और तू अपने परमेश्‍वर यहोवा से कहना, ‘मैं ने तेरी सब आज्ञाओं के अनुसार पवित्र ठहराई हुई वस्तुओं को अपने घर से निकाला, और लेवीय, परदेशी, अनाथ, और विधवा को दे दिया है; तेरी किसी आज्ञा को मैं ने न तो टाला है, और न भूला है। 14उन वस्तुओं में से मैं ने शोक के समय नहीं खाया, और न उनमें से कोई वस्तु अशुद्धता की दशा में घर से निकाली, और न कुछ शोक करनेवालों को#26:14 मूल में, मुर्दे के लिये दिया; मैं ने अपने परमेश्‍वर यहोवा की सुन ली, मैं ने तेरी सब आज्ञाओं के अनुसार किया है। 15तू स्वर्ग में से, जो तेरा पवित्र धाम है, दृष्‍टि करके अपनी प्रजा इस्राएल को आशीष दे, और इस दूध और मधु की धाराओं के देश की भूमि पर आशीष दे, जिसे तू ने हमारे पूर्वजों से खाई हुई शपथ के अनुसार हमें दिया है।’
परमेश्‍वर की निज प्रजा
16“आज के दिन तेरा परमेश्‍वर यहोवा तुझ को इन्हीं विधियों और नियमों को मानने की आज्ञा देता है; इसलिये अपने सारे मन और सारे प्राण से इनके मानने में चौकसी करना। 17तू ने तो आज यहोवा को अपना परमेश्‍वर मानकर यह वचन दिया है, कि मैं तेरे बताए हुए मार्गों पर चलूँगा, और तेरी विधियों, आज्ञाओं, और नियमों को माना करूँगा, और तेरी सुना करूँगा। 18और यहोवा ने भी आज तुझ को अपने वचन के अनुसार अपना प्रजारूपी निज धन-सम्पत्ति माना है, कि तू उसकी सब आज्ञाओं को माना करे,#निर्ग 19:5; व्य 4:20; 7:6; 14:2; तीतु 2:14; 1 पत 2:9 19और कि वह अपनी बनाई हुई सब जातियों से अधिक प्रशंसा, नाम, और शोभा के विषय में तुझ को प्रतिष्‍ठित करे, और तू उसके वचन के अनुसार अपने परमेश्‍वर यहोवा की पवित्र प्रजा बना रहे।”